Home Story Etc Page 2

Story Etc

Public Sector Banks

बैंक वाले …..

  • by
एक जगह आधा किलोमीटर के दायरे में तीन सार्वजनिक क्षेत्र की बैंक थीं और एक निजी बैंक । एक ग्राहक दीनदयाल जी के तीनों ही… Read More »बैंक वाले …..

हनुमान चालीसा

  • by
हनुमान चालीसा अर्थ सहित ! श्री गुरु चरण सरोज रज, निज मन मुकुरु सुधारि। बरनऊँ रघुवर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।   《अर्थ》→ गुरु… Read More »हनुमान चालीसा

काम की परख

  • by
हर व्यक्ति जो कार्य करता है वो यही समझता है कि वो जो काम कर रहा है उससे बेहतर इस काम को कोई नहीं कर… Read More »काम की परख

वो बीते पल

  • by
यादों के झरोखे से :-  ये क्या मैं भागम भाग दौड़े जा रहा हूँ , कॉलेज पहुँचने की बहुत जल्दी है , हाथ में एक… Read More »वो बीते पल