Home कब है छठ पूजा chhath puja kab hai ?

कब है छठ पूजा chhath puja kab hai ?

  • by
Share with Friends

छठ पूजा 2020 chhath puja kab hai

छठ पूजा हिंदूओं का एक प्रमुख त्यौहार है। उत्तर भारत खासकर बिहार में इस पर्व को अति उत्साह और धूमधाम के साथ मनाया जाता है। छठ पूजा मुख्य रूप से सूर्यदेव की उपासना का पर्व है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार छठ को सूर्य देवता की बहन हैं। इसे सूर्य षष्ठी के नाम से भी जाना जाता है। यह पर्व दिवाली के 6 दिन बाद मनाया जाता है।

छठ पूजा Chhath Puja और मुहूर्त Chhath Puja Muhurt

छठ पूजा Chhath Puja इस बार 20 नवंबर 2020 को पड़ रही है । इसी दिन अर्घ दिया जाएगा ।

Chhath Puja kab hai

यह चार दिवसीय त्योहार है, जो कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से शुरू होता है और कार्तिक शुक्ल सप्तमी को समाप्त होता है।

20 नवंबर (संध्या अर्घ्य) सूर्यास्त का समय: 17: 25: 26
21 नवंबर (उषा अर्घ्य) सूर्योदय का समय: 06: 48: 52

छठ पूजा Chhath Puja कब क्यों कैसे ?

छठ या छठ पूजा कार्तिक शुक्ल पक्ष के षष्ठी को मनाया जाने वाला एक हिन्दू पर्व है। यह पर्व मुख्य रूप से भारत के बिहार, झारखण्ड, पूर्वी उत्तर प्रदेश और नेपाल के तराई क्षेत्रों में मनाया जाता है। धीरे-धीरे यह त्योहार प्रवासी भारतीयों के साथ-साथ विश्वभर में प्रचलित हो गया है । सूर्योपासना के लिए यह प्रसिद्ध पर्व है । मूलत: सूर्य षष्ठी व्रत होने के कारण इसे छठ कहा गया है।

यह पर्व वर्ष में दो बार मनाया जाता है। पहली बार चैत्र में और दूसरी बार कार्तिक में। चैत्र शुक्ल पक्ष षष्ठी पर मनाये जाने वाले छठ पर्व को चैती छठ व कार्तिक शुक्ल पक्ष षष्ठी पर मनाये जाने वाले पर्व को कार्तिकी छठ कहा जाता है।

पारिवारिक सुख-समृद्धी तथा मनोवांछित फल प्राप्ति के लिए यह पर्व मनाया जाता है। स्त्री और पुरुष समान रूप से इस पर्व को मनाते हैं। छठ व्रत के सम्बन्ध में अनेक कथाएँ प्रचलित हैं; उनमें से एक कथा के अनुसार जब पांडव अपना सारा राजपाट जुए में हार गये, तब श्री कृष्ण द्वारा बताये जाने पर द्रौपदी ने छठ व्रत रखा।

तब उनकी मनोकामनाएँ पूरी हुईं तथा पांडवों को राजपाट वापस मिला। लोक परम्परा के अनुसार सूर्यदेव और छठी मइया का सम्बन्ध भाई-बहन का है।

यह पर्व चार दिनों का है। भैयादूज के तीसरे दिन से यह आरम्भ होता है।

छठ पूजा विधि Chhath Puja vidhi

पहले दिन ( नहाय खाय) :-

यह छठ पूजा का पहला दिन है। नहाय खाय से मतलब है कि इस दिन स्नान के बाद घर की साफ-सफाई की जाती है और मन को तामसिक प्रवृत्ति से बचाने के लिए शाकाहारी भोजन किया जाता है। सेन्धा नमक, घी से बना हुआ अरवा चावल और कद्दू की सब्जी प्रसाद के रूप में ली जाती है।

दूसरे दिन ( लोहंडा और खरना) :-

कार्तिक शुक्ल पंचमी को पूरे दिन व्रत रखा जाता है व शाम को व्रती भोजन ग्रहण करते हैं। इसे खरना कहा जाता है। इस दिन अन्न व जल ग्रहण किये बिना उपवास किया जाता है।  नमक व चीनी का इस्तेमाल नहीं किया जाता। उपवास आरम्भ होता है। व्रति दिनभर अन्न-जल त्याग कर शाम करीब ७ बजे से खीर बनाकर, पूजा करने के उपरान्त प्रसाद ग्रहण करते हैं, जिसे खरना कहते हैं। शाम को चाव व गुड़ से खीर बनाकर खाया जाता है।

तीसरे दिन (संध्या) :-

छठ पर्व के तीसरे दिन कार्तिक शुक्ल षष्ठी को संध्या के समय सूर्य देव को अर्घ्य दिया जाता है। शाम को बाँस की टोकरी में फलों, ठेकुआ, चावल के लड्डू आदि से अर्घ्य का सूप सजाया जाता है, जिसके बाद व्रति अपने परिवार के साथ सूर्य को अर्घ्य देती हैं। अर्घ्य के समय सूर्य देव को जल और दूध चढ़ाया जाता है और प्रसाद भरे सूप से छठी मैया की पूजा की जाती है। सूर्य देव की उपासना के बाद रात्रि में छठी माता के गीत गाए जाते हैं और व्रत कथा सुनी जाती है।अंतिम दिन उगते हुए सूर्य को अर्घ्य चढ़ाते हैं।

चौथे दिन (ऊषा) :-

कार्तिक शुक्ल सप्तमी की सुबह उदियमान सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। व्रति वहीं पुनः इकट्ठा होते हैं जहाँ उन्होंने पूर्व संध्या को अर्घ्य दिया था। पुनः पिछले शाम की प्रक्रिया की पुनरावृत्ति होती है।

विशेष है छठ पूजा

यह छठ व्रत अधिकतर महिलाओं द्वारा किया जाता है, कुछ पुरुष भी इस व्रत रखते हैं। व्रत रखने वाली महिलाओं को परवैतिन कहा जाता है।चार दिनों के इस व्रत में व्रति को लगातार उपवास करना होता है। भोजन के साथ ही सुखद शैय्या का भी त्याग किया जाता है। पर्व के लिए बनाये गये कमरे में व्रति फर्श पर एक कम्बल या चादर के सहारे ही रात बिताती हैं।

इस उत्सव में शामिल होने वाले लोग नये कपड़े पहनते हैं। जिनमें किसी प्रकार की सिलाई नहीं की गयी होती है व्रति को ऐसे कपड़े पहनना अनिवार्य होता है। महिलाएँ साड़ी और पुरुष धोती पहनकर छठ करते हैं। छठ पर्व को शुरू करने के बाद सालों साल तब तक करना होता है, जब तक कि अगली पीढ़ी की किसी विवाहित महिला इसके लिए तैयार न हो जाए। घर में किसी की मृत्यु हो जाने पर यह पर्व नहीं मनाया जाता है।

ऐसी मान्यता है कि छठ पर्व पर व्रत करने वाली महिलाओं को पुत्र रत्न की प्राप्ति होती है। पुत्र की चाहत रखने वाली और पुत्र की कुशलता के लिए सामान्य तौर पर महिलाएँ यह व्रत रखती हैं। पुरुष भी पूरी निष्ठा से अपने मनोवांछित कार्य को सफल होने के लिए व्रत रखते हैं।

महत्वपूर्ण बातें :-

प्रसाद में ठेकुआ, मालपुआ, खीर, खजूर, चावल का लड्डू और सूजी का हलवा आदि छठ मइया को प्रसाद के रूप में चढ़ाया जाता है।

वर्ती छठ पर्व के चारों दिन नए कपड़े पहनें, महिलाएं साड़ी और पुरुष धोती पहनें, छठ पूजा के चारों दिन वर्ती जमीन पर चटाई पर सोएं, पूजा में गुड़ और गेंहू के आटे के ठेपुआ, फलों में केला और गन्ना ध्यान से रखें ।

कथा:- chhath katha

प्रियव्रत नाम का एक राजा था, उनकी पत्नी का नाम था मालिनी, दोनों की कोई संतान नहीं थी।
इस बात से राजा और रानी दोनों की दुखी रहते थे, संतान प्राप्ति के लिए राजा ने महर्षि कश्यप से पुत्रेष्टि यज्ञ करवाया।

यह यज्ञ सफल हुआ और रानी गर्भवती हुईं। लेकिन रानी की मरा हुआ बेटा पैदा हुआ, इस बात से राजा प्रियव्रत इतने दुखी हुए कि उन्होंने आत्म हत्या का मन बना लिया, जैसे ही वो खुद को मारने के लिए आगे बड़े छठ देवी प्रकट हुईं और राजा से कहा कि जो भी व्यक्ति मेरी सच्चे मन से पूजा करता है मैं उन्हें पुत्र का सौभाग्य प्रदान करती हूं।

यदि तुम भी मेरी पूजा करोगे तो तुम्हें पुत्र रत्न की प्राप्ति होगी। राजा प्रियव्रत ने देवी की बात मानी और कार्तिक शुक्ल की षष्ठी तिथि के दिन देवी षष्ठी की पूजा की, इस पूजा से देवी खुश हुईं और तब से हर साल इस तिथि को छठ पर्व मनाया जाने लगा।

गौर करने वाली बात ये भी है कि कई जगह छठ पूजा का महत्व दिवाली पूजा से भी अधिक है । इस अवसर पर विभिन्न राज्यों से बिहार की ओर जाने वाली लगभग सभी ट्रेन फुल रहती हैं ।