Home शून्य भेदभाव दिवस

शून्य भेदभाव दिवस

  • by

शून्य भेदभाव दिवस

Zero Discrimination Day

शून्य भेदभाव दिवस Zero Discrimination Day जीरो डिस्क्रिमिनेशन डे, 1 मार्च को रोज़मर्रा की स्थितियों में भेदभाव पहचाननें व भेदभाव कहाँ होता है और इसे रोकने के लिए क्या कदम उठाना चाहिए इसके लिए एक कदम है। भेदभाव अक्सर गलत सूचना व रिवाजों पर आधारित होता है।

शून्य भेदभाव दिवस संयुक्त राष्ट्र और अन्य अंतरराष्ट्रीय संगठनों द्वारा मनाया जाने वाला दिन है। यह समानता और भेदभाव रहित वातावरण बनाने के लिए मनाया जाता है ।

संयुक्त राष्ट्र ने पहली बार 1 मार्च 2014 को शून्य भेदभाव दिवस मनाया। यह दिसंबर 2013 में विश्व एड्स दिवस पर UNAIDS  द्वारा अपने शून्य भेदभाव अभियान शुरू करने के बाद देखा गया था। यह एक्वायर्ड इम्यून डेफिसिएंसी सिंड्रोम (एड्स) पर संयुक्त राष्ट्र का एक कार्यक्रम है।

इसे 2014 में  27 फरवरी को UNAIDS के कार्यकारी निदेशक मिशेल सिदीबे द्वारा बीजिंग में लॉन्च किया गया था। और यह दिन पहली बार 1 मार्च 2014 को मनाया गया था।

एचआईवी को रोकने और इलाज के लिए स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंच आवश्यक है। और फिर भी एचआईवी के साथ रहने वाले पांच लोगों में से लगभग एक ने स्थानीय क्लिनिक या अस्पताल जाने से बचने की सूचना दी क्योंकि उन्हें अपने एचआईवी स्थिति से संबंधित कलंक या भेदभाव की आशंका थी।

संयुक्त राष्ट्र जैसे संगठन उम्र, लिंग, जातीयता, त्वचा का रंग, पेशा, विकलांगता,  की परवाह किए बिना सभी को समान रूप से जीने के अधिकार को मनाने के लिए विभिन्न गतिविधियों के साथ इस दिन को बढ़ावा देते हैं।

क्या होगा यदि आपको पता चले जिस व्यक्ति से आप खाने का सामान खरीद रहे हैं वह एचआईवी से ग्रसित था? क्या आप उससे सामान खरीदेंगे? क्या आप दोस्त को बीमारी के चलते उससे बातचीत करना बंद कर देंगे?

भेदभाव गलत है,  यह सभी के लिए बुरा है, देश के भविष्य के लिए बुरा है। महिलाओं के खिलाफ भेदभाव भारत में उच्च स्तर पर है ।

किसी भी कारण से किसी के साथ भेदभाव नहीं किया जाना चाहिए। भेदभाव रहित और समानता की दुनिया को प्राप्त करने के प्रयास जारी है। लोग हर दिन भेदभाव का सामना करते हैं कि वे कौन हैं या वे क्या करते हैं।

भेदभाव खत्म करने के लिए कानून और कार्रवाई की आवश्यकता है। शून्य भेदभाव दिवस Zero Discrimination Day निष्पक्ष और न्यायपूर्ण समाज की ओर देश को आगे बढ़ा सकता है ।

ये दिन विशेष रूप से यूएनएड्स जैसे संगठनों द्वारा ध्यान दिया जाता है जो एचआईवी / एड्स के साथ रहने वाले लोगों के साथ भेदभाव का मुकाबला करते हैं। एचआईवी / एड्स वाले लोग भेदभाव का सामना करते हैं।

यह दिवस बड़े पैमाने पर समाज की भूमिका को उजागर करता है जिस तरह से लोगों को देखा जाता है। यह अधिक निष्पक्ष और न्यायपूर्ण समाज का आह्वान करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *