Home 14 सितंबर क्यों है हिंदी दिवस ?

14 सितंबर क्यों है हिंदी दिवस ?

  • by
Share with Friends

हिंदी दिवस Hindi divas और इसकी महत्ता:

हमारे भारत देश मे अनेकों अनेक भाषाएं बोलियाँ प्रचलित हैं जिनमें से मुख्य है हिंदी भाषा जिसे सबसे अधिक क्षेत्र में बोला और समझा जाता है । हालांकि आजादी के समय शुरू में हिंदी के साथ ही अंग्रेजी को भी आधिकारिक भाषा के रूप में स्वीकार किया गया लेकिन भारत देश में 14 सितंबर 1949 को हिंदी को राजभाषा का दर्जा दिया गया।

1949 में आज ही के दिन संविधान सभा ने हिंदी को ही भारत की राजभाषा घोषित किया। हिंदी को देश की राजभाषा घोषित किए जाने के दिन ही हर साल हिंदी दिवस मनाने का भी फैसला किया गया । इसके बाबजूद राजभाषा घोषित होने के बाद भी चार साल बाद पहला हिंदी दिवस 14 सितंबर 1953 को मनाया गया।

हिंदी को आगे बढ़ाने के प्रयास:

अपनी मात्र भाषा को बोलने या सीखने में संकोच न करें। यदि ऐसा करेंगे तो हिंदी विलुप्त होने की कगार पर पहुंच जाएगी। आज जब अंग्रेजी को अधिक महत्त्व दिया जा रहा है तब एक लहर भी चली है कि अपने देश में केवल अपनी भाषा में ही काम करेंगे और इसे विश्व पटल तक लेकर जाएँगे।

हम सबको सोचना होगा। आज अंग्रेजी विश्व की भाषा इसलिए बन पाई क्योंकि उसका प्रचार प्रसार अधिक हुआ। अंग्रेज पूरी दुनियां में गए और केवल अंग्रेजी में ही काम और संवाद को महत्ता दी।

हमें लगातार प्रयास करते रहने होंगे। तभी हिंदी को विश्व पटल पर ले जाया जा सकता है। हमें ऐसे कानून बनाने होंगे कि कार्यालयों और स्कूल, कॉलेजों में हिंदी में संवाद और लिखित कार्य को जरूरी बना दिया जाए।

एक भारतीय होने के नाते हमें हिंदी प्रेमी होना ही चाहिए आप देख सकते हैं जापान, चीन, रूस जैसे देश अपनी अपनी भाषाओं में ही पढ़ाई लिखाई करके आगे तरक्की कर रहे हैं जिससे साबित होता है तरक्की के लिए अंग्रेजी जरूरी नहीं ।

ज्यादातर लोग समझते हैं कि अंग्रेजी ही सबकुछ है ऐसा नहीं है ये हमारे देश का दुर्भाग्य है कि हमारे देश की शिक्षा व्यवस्था पूर्णतः हिंदी में नहीं है और एक स्तर से आगे जाने के बाद सारी पढ़ाई लिखाई अंग्रेजी में होती है । यदि हिंदी पर सभी देशवासी ध्यान दें तो हम जापानीज,चाइनीज,स्पेनिश,रशियन भाषा की तरह हिंदी को भी विश्वपटल पर अग्रणी श्रेणी में पहुंचा सकते हैं । तो आइए आज हिंदी दिवस के मौके पर अपने बच्चों को हिंदी के प्रति आकर्षित करें ।

बढ़ रहा है हिन्दी का दायरा

सरकार द्वारा हिंदी को बढ़ावा देने के लिए कई तरह के कार्यक्रम चलाए जाए हैं। हिंदी दिवस के दिन कॉलेज और स्कूल स्तर पर विद्यार्थियों को हिंदी का महत्व बताया जाता है। इस दिन सभी सरकारी कार्यालयों में विभिन्न विषयों पर हिंदी में व्याख्यान आयोजित किये जाते हैं।

उत्तर भारत के कई राज्यों जैसे उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान, उत्तराखंड, हरियाणा, झारखंड आदि में एक बड़ी आबादी हिंदी भाषी लोगों की है। धीरे धीरे हिंदी की पकड़ सम्पूर्ण भारत वर्ष में बढती जा रही है । अब तो विदेशों में जाकर भी हिंदी में संबोधन एक प्रथा बनती जा रही है

हिन्दी दिवस Hindi Diwas पर होने वाले कार्यक्रम:

हिन्दी दिवस के दौरान कई कार्यक्रम होते हैं, जिसमें हिन्दी निबंध लेखन, वाद-विवाद हिन्दी टंकण प्रतियोगिता आदि होता है। हिन्दी दिवस पर हिन्दी के प्रति लोगों को प्रेरित करने हेतु आयोजनोंके साथ साथ सम्मान स्वरूप इनाम दिए जाते हैं।  हिन्दी भाषा को कुछ और दिन याद रखें इस कारण राष्ट्रभाषा सप्ताह का भी आयोजन होता है।