Home बैंक कर्मी ने दागे सवाल चुप हुए नेता भक्त

बैंक कर्मी ने दागे सवाल चुप हुए नेता भक्त

  • by

बहस में बैंक कर्मी ने दागे सवाल चुप हुए नेता भक्त , जनता आई बैंक समर्थन में

ये रहे वे सवाल :

क्या आप खाता निजी बैंक में है?

क्या गांव के पास निजी बैंक हैं?

 

जब भी आप अपने गाँव के पास के शहर में गए, आपने निजी बैंक का दौरा किया?

किसी भी निजी बैंक प्रबंधक / अधिकारी / कर्मचारी ने आपके गांव का दौरा किया?

 

क्या आपके गाँव में निजी बैंक का कोई एटीएम है?

प्राइवेट बैंक आपको सरकारी प्रायोजक योजना का लाभ देता है?

 

आपके गाँव के पास शहर में निजी बैंक हैं। , आपने निजी बैंक में किसान क्रेडिट कार्ड या ट्रैक्टर ऋण के लिए आवेदन किया है?

 

मान लीजिए कि निजी बैंक में आपका खाता खोला गया है। क्या आप न्यूनतम शेष आवश्यकताओं का प्रबंधन कर पाएंगे? निजी बैंक आपको अटल पेंशन योजना या जीवन ज्योति बीमा बीमा योजना आदि की पेशकश करेगा?

 

आपके लिए सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के मामूली शुल्क का भुगतान करना मुश्किल है। क्या आप निजी बैंकों के उच्च शुल्क का भुगतान करने में सक्षम होंगे?

 

अगर इन सवालों का जवाब “नहीं” है, तो बैंक का निजीकरण आपके लिए कितना फायदेमंद है?

 

Bank Privatisation for farmers Good or bad?