Home कोरोना वायरस पर पूरी जानकारी अपडेट

कोरोना वायरस पर पूरी जानकारी अपडेट

  • by

कुल कोरोना के केस अब तक

कुल – 9,98,603   भारत में – 2341

कोरोना से मृत्यु अब तक

कुल – 51268  भारत में – 68

कोरोना वायरस Corona virus महामारी घोषित

दुनिया भर में कोरोना वायरस के हजारों मामले सामने आ रहे हैं । विश्व स्वास्थ्य संगठन के ताज़ा आंकड़ों के अनुसार दुनिया के 190 देशों में अब तक कोरोना वायरस के संक्रमण के लगभग 9,25,000 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। इसके कारण अब तक लगभग 46 हज़ार लोगों की मौत हो चुकी है।

कोरोना वायरस का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है। इसे फैलने से रोकना एक बड़ी चुनौती बन गई है।

इंसान के शरीर में पहुंचने के बाद कोरोना वायरस उसके फेफड़ों में संक्रमण करता है। इस कारण सबसे पहले बुख़ार, उसके बाद सूखी खांसी आती है। बाद में सांस लेने में समस्या होने लगती है।

कोरोना वायरस कोविड 19 (COVID-19)  क्या है

कोरोना वायरस (COVID-19) एक संक्रामक रोग है। यह एक नावेल कोरोनावायरस है। चीन के वुहान से शुरू हुआ कोरोना वायरस (Corona virus disease – COVID-19) 192 देशों में पहुंच गया है। यह एक नए तरह के वायरस की वजह से होता है जिसे पहले कभी इंसानों में नहीं देखा गया। इससे पहले इस वायरस फैमिली के सदस्य से सामना नहीं हुआ था। दूसरे वायरस की तरह यह वायरस भी जानवरों से आया है। चीन से फैले कोरोना वायरस ने भारत समेत दुनिया के कई देशों में हाहाकार मचा दिया है।

चीन में कोरोना वायरस ने कई लोगों की जान ले ली है। सैंकड़ों लोग इसकी चपेट में हैं। कोरोना वायरस की भयावहता को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने चीन में इमरजेंसी की घोषणा कर दी है।

चीन में जो लोग जानवरों को खाने के लिए इस्तेमाल करते थे वे सर्वप्रथम इस वायरस से संक्रमित हुए हैं। यह नावेल कोरोनावायरस आमतौर से जानवरों से ही उत्पन्न हुआ है। जानकारों का कहना है इसके संक्रमण को फैलने से रोककर ही इसे काबू में किया जा सकता है ।

कोविड 19 (COVID-19) — कोरोना वायरस का नाम

नया वायरस ‘कोरोना’ पुराने वायरस परिवार का एक नया सदस्य है। इस नये प्राणघाती वायरस को नया नाम सार्स-सीओवी-2 (SARS-CoV-2) दिया गया है।  ‘सार्स’ की फुल फॉर्म सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिन्ड्रम है।

इस वायरस के कारण सांस लेने में भारी कठिनाई और फेफड़ों में सूजन की जो प्राणघातक बीमारी फैल रही है । यह वायरस पहली बार दिसंबर 2019 में देखने में आया है इसलिए इससे होने वाली बीमारी का वैज्ञानिक नाम कोविड-19 (Covid-19/ को=कोरोना, वी=वायरस, डी=डिसीज 19=2019) (Corona virus disease – COVID-19) रखा गया है।

कोरोना वायरस के लक्षण

कोरोना वायरस के संक्रमण से बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्याएं हो जाती हैं। इसके लक्षण एकदम फ्लू से मिलते-जुलते हैं। यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। अधिक उम्र के लोग जिन्हें पहले से डायबिटीज़, हार्ट या अन्य गंभीर बीमारी है वे तुरंत इस वायरस से संक्रमित हो सकते हैं।

संक्रमण के फलस्वरूप सबसे पहले जुकाम फिर बुखार और सांस लेने में तकलीफ और गले में खराश जैसी समस्या उत्पन्न होने लगती हैं यह न्यूमोनिया का कारण भी बन सकता है। इन्सान के अंदर की इम्युनिटी पावर जितनी अधिक होगी वो इससे उतना ही सुरक्षित रहेगा।

नया चीनी कोरोनो वायरस, सार्स वायरस की तरह है। इसके लक्षणों को पहचानकर ही कोरोना वायरस की बेहतर तरीके से रोकथाम की जा सकती है।

सामान्य फ्लू और ‘कोविड-19’ के आरंभिक लक्षण लगभग एक जैसे होने के कारण लोगों से कहा जा रहा है कि जिसे भी संक्रमण का शक हो  वह पहले अपने डॉक्टर से फ़ोन पर संपर्क करे न कि उसके दवाखाने में पहुंच जाये।

कैसे फैलता है कोरोना वायरस ?

चीन के बुहान से कोरोना वायरस जानवरों से मनुष्यों तक पहुंच चुका है और अब मनुष्यों से मनुष्यों के बीच सफर कर रहा है। कोरोना से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से अन्य लोग भी संक्रमित हो रहे हैं क्योंकि यह रोग किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से फैलता है।

संक्रमित व्यक्ति के खांसने या छींकने पर उसके मुंह और नाक से निकले कण द्वारा यह रोग दूसरों में फैलता है कोरोना वायरस के बेहद बारीक कण हवा में फैलते हैं। इन कणों में कोरोना वायरस के विषाणु होते हैं।

संक्रमित व्यक्ति के पास मौजूद लोग जब इन विषाणुयुक्त कण के संपर्क में आते हैं तो यह कण उनके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं क्योंकि अगर आप किसी भी ऐसी वस्तु को छूते हैं जहां ये कण गिरे हैं और उसी हाथ से अपनी आंख, नाक या मुंह को छूते हैं तो ये कण आपके शरीर में पहुंच जाते हैं।

इसी तरह एक संक्रमित व्यक्ति यह वायरस सभी संपर्क में आए लोगों तक पहुंचा सकता है अतः संक्रमित व्यक्ति व उसके आसपास सभी को सावधानी बरतने की आवश्यकता है।

अब तक की जानकारी के अनुसार ‘कोविड-19’ के वायरस मुख्यतः किसी संक्रमित व्यक्ति द्वारा सांस छोड़ने, छींकने और खांसने के साथ हवा के द्वारा, या उसकी बहती नाक के पानी और थूक के संपर्क में आने से किसी दूसरे व्यक्ति तक पहुंचते हैं।

किसी संक्रमित व्यक्ति के बहुत निकट जाने, उसे छूने, सहलाने या उससे हाथ मिलाने से तथा उसके आस-पास की वस्तुओं को हाथ लगाने से भी वायरस किसी दूसरे व्यक्ति तक पहुंच सकते हैं।

कोरोना वायरस की जाँच

इस बीमारी के लक्षण प्रायः बहुत उग्र नहीं होते और न एक साथ उभरते हैं। क़रीब 80 प्रतिशत लोग बिना किसी ख़ास उपचार के ठीक हो जाते हैं। छह में से एक मामले में ही यह गंभीर रूप ले सकती है। संक्रमण के दो प्रतिशत मामलों में मृत्यु भी हो सकती है।

कोई व्यक्ति संक्रमित है या नहीं इसकी पुष्टि टेस्ट से की जाती है। ‘पीसीआर (पॉलीमरेज़ चेन-रिएक्शन) टेस्ट’ की सहायता से वायरस के जीनों की पहचान की जाती है। तीन से पांच घंटों में वायरस की पहचान हो जाती है।

कोरोना वायरस ‘कोविड-19’ से बचाव के उपाय

कोरोना वायरस से बचाव का फिलहाल कोई टीका या दवा तैयार नहीं है। इसलिए इससे बचाव के लिए स्वयं ही कोशिश करनी होगी। इसलिए खांसते और छींकते वक्त टिश्यू का इस्तेमाल करें, बिना हाथ धोए अपने चेहरे को न छुएँ और संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से बचें ।

सर्वप्रथम आवश्यक न हो तो जब तक खतरा कम नहीं हो जाता घर से कम निकलें।

कोई व्यक्ति खांस या छींक रहा हो तो उससे कम से कम एक मीटर की दूरी बनाए रखें ।

बाहर जाने या काम पर अपनी आंख, नाक और मुंह को हाथ लगाने से बचें ।

चिकित्सा विशेषज्ञों के अनुसार फेस मास्क इस वायरस से प्रभावी सुरक्षा प्रदान नहीं करते और सामान्य क़िस्म का मास्क लगाने से वायरस जैसे अतिसूक्ष्म कणों से पूरी तरह बचा नहीं जा सकता। लेकिन फिर भी इनका इस्तेमाल करें क्योंकि कणों के सीधे अन्दर जाने की आशंका थोड़ी कम हो जाती है।

ट्रेन, बस, ट्राम या टैक्सी से यात्रा के बाद घर पहुंचते ही सबसे पहले दोनों हाथ अच्छी तरह धोयें।

काम पर और सफ़र में भी हाथों को मौका मिलते ही अल्कोहल आधारित सेनेटाइजर से मलें या साबुन लगाकर अच्छी तरह से धोयें।

स्वयं खांसते या छींकते वक्त भी मुंह को टिश्यू पेपर से ढंक दें और इस्तेमाल किये टिश्यू पेपर को कचरे के डिब्बे में ही डालें।

खांसी, बुखार या तबीयत ख़राब होने पर घर पर ही रहें और डॉक्टर या नज़दीकी स्वास्थ्य केंद्र को फ़ोन करें घर पर भी इससे बचने के लिए आप नियमित रूप से और अपने हाथ साबुन और पानी से अच्छे से समय समय पर धोते रहें ।

भारत मे कोरोना वायरस

चीन इसे रोकने के लिए हर मुमकिन कोशिश कर रहा है। वहां नए मामलों की संख्या घटी है। वहीं 190 देशों में कोरोना वायरस के केस मिलने के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी WHO ने इसे महामारी घोषित किया है।

भारत में अब तक कोरोना वायरस के लगभग 700 मामलों में पुष्टि हुई है जिनमें से कई के ठीक होने और 14 की मौत की खबर है कोरोना वायरस से पीड़ित लोग जो पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं उन्हें छुट्टी दे दी गई है।

भारत में यह संख्या दिन प्रतिदिन बढती जा रही है। सभी सरकारी एजेंसिया सतर्क हैं ईरान और इटली में फंसे हुए भारतीयों को सरकार द्वारा रेस्क्यू कर 14 दिन के लिए स्पेशल स्वास्थ्य केम्प में चेकिंग के लिए रखा गया था।

गृह मंत्रालय ने जानकारी दी है कि सरकार ने कोरोना वायरस को आपदा बताया है। सरकार ने राज्य आपदा प्रतिक्रिया कोष (एसडीआरएफ) के तहत सहायता प्रदान करने के उद्देश्य से कोरोना वायरस को एक अधिसूचित आपदा के रूप में माना है।

भारतीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को एक अहम बैठक में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए 15 अप्रैल तक सभी वीज़ा पर पाबंदी लगानने का फ़ैसला किया है।

कोरोना के अन्य मामलो में ट्रेस हुए लोगों के संपर्कों में आए व्यक्तियों की पहचान की जा रही  है और उन्हें भी निगरानी में रखा जा रहा है।

भारत में भी कोरोना से संक्रमण के 716 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। कोरोना ने अब तक लगभग सभी राज्यों को अपनी चपेट में ले लिया है। सबसे ज्यादा कोरोना के मामले केरल और महाराष्ट्र में कोरोना की पुष्टि हुई है।

कोरोना वायरस की के डर की वजह से महाराष्ट्र में 31 मार्च तक सभी स्कूल, कॉलेज और शैक्षणिक संस्थान 31 मार्च तक बंद किए गए। आईआईईटी बॉम्बे ने सभी कक्षाएं और लैब से जुड़ी गतिविधियां 29 मार्च तक बंद कर दी हैं।

उत्तर प्रदेश में 31 मार्च तक सभी स्कूल कोलेजो को बंद किया गया है जिन संस्थानों में परिक्षाए चल रही हैं वे चलती रहेंगी, गोवा राज्य में भी 31 मार्च तक सभी स्कूल, कॉलेज, केसिनो, बोट क्रूज़ और डिस्को क्लब बंद हो गए मगर परीक्षाएं शेड्यूल के अनुसार आयोजित की जाएंगी।

कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए ग्रेटर नोएडा जिले के सभी स्विमिंग पूल को 15 अप्रैल तक बंद करने का निर्देश है। हिमाचल प्रदेश राज्य के सभी सरकारी निजी कॉलेज और स्कूल 31 मार्च तक बंद रहेंगे। कर्नाटक के बेंगलुरू में सभी मॉल बंद कर दिए गए हैं। राज्य में अगले सप्ताह तक सभी मॉल, थिएटर, नाइट क्लब, पब और स्विमिंग पूल बंद रहेंगे।

इंफोसिस ने एहतियात के तौर पर बेंगलुरु में अपनी एक सैटेलाइट बिल्डिंग खाली करने का फैसला लिया है ।

तेलंगाना में सिनेमा, पब बंद संक्रमण को रोकने के लिए राज्य में पब्लिक मीटिंग, सेमिनार, वर्कशॉप, रैली, प्रदर्शनी, सांस्कृतिक कार्यक्रम पर प्रतिबंद्ध लगा दिया गया है। सिनेमा हॉल, पब, क्लब और बार को भी बंद कर दिया गया है।  बिहार के समस्तीपुर में कोरोना वायरस को लेकर धारा 144 लागू कर दी गई है।

भारत को या से यात्रा पर 14 दिनों का क्वारंटाइन

सरकार ने सभी को हिदायत दी है कि बेहद ज़रूरी न होने पर वो भारत न आएं। सरकार का कहना है कि भारत आने पर उन्हें कम से कम 14 दिनों के क्वारंटाइन में रखा जा सकता है।

सरकार का कहना है बाहर मौजूद भारतियों कि भारत आने की इच्छा रखने वालों को अब सीधे अपने देश में मौजूद भारतीय दूतावास से संपर्क करना होगा।

ओसीआई कार्डधारकों (प्रवासी भारतीय नगरिकों) को दी जाने वाली वीज़ा मुक्त यात्रा की सुविधा पर 15 अप्रैल 2020 तक के लिए रोक लगा दी गई है। ये रोक सभी हवाई अड्डो और बंगरगाहों पर 13 मार्च 2020 की मध्यरात्रि से ही लागू हो चुकी।

सरकार ने कहा 15 फरवरी के बाद चीन, इटली, ईरान, कोरिया, फ्रांस, स्पेन और जर्मनी से भारत आए सभी यात्रियों को कम से कम 14 दिनों के क्वारंटाइन में रखा जाएगा। इसमें वो भारतीय नागरिक भी शामिल होंगे जो इन देशों में घूमने गए थे।

भारतीय नागरिकों से कहा गया है कि ज़रूरी न होने पर वो विदेश न जाएं, उन्हें देश लौटने पर कम से कम दो सप्ताह के क्वारंटाइन में रखा जा सकता है।

कोरोना वायरस अलर्ट

देश में विदेशों से फैलने वाले वायरस संक्रमण को रोकने के लिए हवाई अड्डों सहित अन्य प्रवेश मार्गों पर मजबूत निगरानी तंत्र अलर्ट पर है। संभावित मरीजों को चिकित्सा निगरानी में रख कर उनकी बारीकी से जांच की जा रही है।

भारत समेत दुनिया के कई देशों ने अपनी अंतरराष्ट्रीय सीमाओं को सील कर दिया है। भारत ने नेपाल, भूटान, बांग्लादेश और म्यांमार से लगी सीमाओं को 15 मार्च की रात से बंद करने का ऐलान कर दिया है।

सभी देशों में सावधानी

इस वायरस के संक्रमण के सबसे अधिक मामले चीन,  इटली,  ईरान और कोरिया में सामने आए हैं । इटली ने अपनी पूरी आबादी को लॉकडाउन में डाल दिया है। देश में खाने और फ़ार्मेसी को छोड़कर हर तरह की दुकान बंद है। लोगों के इकट्ठे होने पर रोक लगा दी गई है और लोगों को अपने घरों में रहने की सलाह दी जा रही है।

जर्मनी की राजधानी बर्लिन में 4 से 8 मार्च तक चलने वाले मेले के आयोजन को रद्द कर दिया गया। जर्मनी में होने वाले और भी कई व्यापार मेलों को रद्द कर दिया गया है।

यूरोप के कई देशों में लोग खाने-पीने की तथा अन्य ज़रूरी चीज़े इस पैमाने पर जमा करने लगे हैं दुकाने ख़ाली होने लगी हैं। कीटनाशक दवाएं, मुंह पर लगाने की सुरक्षा-नकाब, नाक पोंछने के टिश्यू पेपर की कमी हो रही है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को महामारी घोषित किया है। कोरोना के 90 फीसदी मामले मात्र चार देशों में हैं जिनमें चीन और कोरिया शामिल हैं।

कुवैत ने अनिश्चितकाल के लिए अपने एयरपोर्ट बंद कर दिए हैं। सऊदी अरब ने भी सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को सस्पेंड कर दिया है ।

कोरोना वायरस लक्षण और बचाव के उपाय

शेयर बाजार धडाम

सभी देशों के उद्योगधंधों और अर्थव्यवस्था पर प्रभाव पड़ रहा है। वैश्विक अर्थव्यवस्था में भारी गिरावट देखने को मिल रही है। भारत की अर्थव्यस्था भी इस गिरावट की आंच से बच नहीं पाई है। कोरोना का असर दुनियाभर के शेयर बाजारों पर दिख रहा है। भारत सहित कई देशों के शेयर बाजार में बड़ी गिरावट आई है।